अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.16.2016

हास्य-व्यंग्य कविताएँ

, , , , , , , , , क्ष, ख्, , , , , , ज्ञ, , , , , , , त्र, , , , , , , , , म, , , , , श-ष, श्र-शृ, , ,

     
   
अहसास!    
    - ऊपर
   
आजकल के शरवन!    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
ईर्ष्या    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
कुँआरा राहुल गाँधी    
    - ऊपर
क्ष    
क्षणिकाएँ (विशाल शुक्ल)    
    - ऊपर
   
खिंच जाएगी खाल    
    - ऊपर
     
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
जग में नहीं है आदर जादूगर जूते की अभिलाषा
    - ऊपर
ज्ञ    
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर

   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
तरक्की    
- ऊपर
त्र    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
निराला तांगे वाला! नेता जी!  
    - ऊपर
   
पति की दास्तान    
    - ऊपर
   
फिर मिलेंगे!    
    - ऊपर
   
बिजली क्यूँ चमके, बादल क्यूँ गरजें?    
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
मैं भ्रष्टाचार मिटाऊँगा    
    - ऊपर
   
यमराज, चित्रगुप्त और हिन्दुस्तानी    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
लूट का सबसे बड़ा धंधा    
    - ऊपर
   
व्यंग्य ऊपर व्यंग्य वास्तु की महिमा वे वोट क्यों नहीं देते?
    - ऊपर
श-ष    
     
    - ऊपर
श्र-शृ    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
हर समस्या का निदान - पत्नी पुराण
हल्ला बोल पार्टी का चुनाव अभियान
हवालात
हाय रे पुरस्कार
हे देवाधिदेव!
होली?
होली
होली खेलत कोतवाल
होली हटक्कली
- ऊपर
   

 

    - ऊपर