अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.05.2017

सांस्कृतिक कथा

, , , , , , , , , क्ष, ख्, , , , , , ज्ञ, , , , , , , त्र, , , , , , , , , म, , , , , श-ष, श्र-शृ, , ,

     
   
अक़लची बन्दर
अक्ल बिना नक़ल
अपना हाथ जगन्नाथ
अपने अपने करम
अहितकारी सच
 
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
कन्हैया की हाज़िर जवाबी
कठपुतली का नाच
कभी किसी को कमज़ोर मत समझो करत-करत अभ्यास ते
    - ऊपर
क्ष    
     
    - ऊपर
   
खानदानी    
    - ऊपर
गिटारवादक (रूसी लोककथा) गुण का ग्राहक  
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
चतुर राज ज्योतिषी चावल बन गया धान  
- ऊपर
   
छोटा नहीं है कोई    
    - ऊपर
   
जंगल के दोस्त
जंगल में महासभा
जैसी तुम्हारी इच्छा जैसे को तैसा
    - ऊपर
ज्ञ    
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर

   
टूटी डोर टेढ़ी खीर  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
तीन पुतले तेरी दुनिया बहुत निराली है  
- ऊपर
त्र    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
दादी माँ की सीख
देनेवाला जब भी देता, देता छप्पर फाड़ के  भोजपुरी लोककथा  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
पसीने की ताक़त
पहले मैं तो छोड़ के देखूँ
   
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
बन्दर विमर्श
बड़ा कौन - लक्ष्मी या सरस्वती
बहेलिया और कबूतरी
बापू उसे मत फेंकना तुम्हारे काम आएगा बैबून और ज़ेबरा (जूलूलैंड की लोककथा)
- ऊपर
   
भाग्य का लिखा टल नहीं सकता भूख की आग  
    - ऊपर
   
मेहनत की कमाई मैं रावण हूँ  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
लक्ष्मी का आवास और प्रवास    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
श-ष    
     
    - ऊपर
श्र-शृ    
     
    - ऊपर
   
सच्चा सोनार सोने की चमक  
    - ऊपर
   
हथेली पर बाल हर काम अच्छे के लिये होता है  
- ऊपर
   

 

    - ऊपर