अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.31.2015


काका हाथरसी हास्यरत्न सम्मान
डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल

20 फरवरी 2015 को वर्ष 2013 का ‘काका हाथरसी हास्यरत्न सम्मान’ प्रसिद्ध व्यंग्यकार डॉ. प्रेम जनमेजय को तथा वर्ष 2014 का ‘काका हाथरसी हास्यरत्न सम्मान’ लोकप्रिय मंचीय कवि श्री सर्वेश अस्थाना को प्रदान किया गया।

प्रगति मैदान में विश्व पुस्तक मेले के ‘लेखक मंच’ पर आयोजित इस कार्यक्रम में प्रसिद्ध विद्वान डॉ. प्रभाकर श्रोत्रिय तथा पूर्व राजनयिक श्री वीरेन्द्र गुप्त द्वारा दोनों व्यंग्यकारों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पुरस्कारस्वरूप दोनों महानुभावों को अंगवस्त्र, श्रीफल, प्रशस्ति-पत्र तथा पुरस्कार की राशि पच्चीस-पच्चीस हज़ार रुपये प्रदान की गई।

इस अवसर पर काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट के सचिव डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल ने ट्रस्ट के पुरस्कारों की रूपरेखा प्रस्तुत की और बताया कि काका हाथरसी द्वारा अपने स्रोत से स्थापित इस ट्रस्ट द्वारा प्रथम पुरस्कार 1975 में हास्यरस के जाने-माने कवि श्री ओमप्रकाश आदित्य को दिया गया था। तब से अब तक चालीस हास्य-व्यंग्यकारों को सम्मानित करने का सौभाग्य ट्रस्ट को प्राप्त हुआ है। काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट के उपाध्यक्ष प्रो. अशोक चक्रधर ने काका हाथरसी के जीवनवृत्त को रोचक ढंग से प्रस्तुत किया और डॉ. मुकेश गर्ग ने श्री काका हाथरसी से जुड़े अनेक रोचक संस्मरण सुनाए।

अनेक विख्यात साहित्यकारों तथा व्यंग्य लेखकों ने उपस्थित होकर इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। कार्यक्रम का सफल संचालन स्नेहा चक्रधर ने किया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें