अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.05.2015


बाल साहित्यकारों ने की ‘बच्चों से बच्चों की बातें’
तीन विद्यालय, तीन बाल साहित्यकार और 300 बच्चों का अनूठा संगम
प्रस्तुति: अभिनव बालमन

नागेश पाण्डेय के साथ विश्व भारती पब्लिक स्कूल में

अलीगढ़ - बाल रचनाकारों की राष्ट्रीय पत्रिका ‘अभिनव बालमन’ द्वारा ‘बच्चों से बच्चों की बातें’ का आयोजन किया गया। इसमें सासनी गेट स्थित विश्व भारती पब्लिक स्कूल, पला रोड स्थित महर्षि विद्या मन्दिर एवं आगरा रोड स्थित शिप्रस स्कूल में अलग-अलग तीन बाल साहित्यकारों ने बच्चों से बच्चों की बातें कीं।

विश्व भारती पब्लिक स्कूल में अल्मोड़ा से आए बालप्रहरी पत्रिका के सम्पादक उदय किरौला ने ज्ञानवर्धक खेलों के माध्यम से कहानी-कविता को बच्चों के समक्ष प्रस्तुत किया। बच्चों का खेल के माध्यम से कविता-कहानी सुनना एक अलग ही अनुभव रहा। उन्होंने कुछ पर्चियों के माध्यम से सभी बच्चों को कुछ शीर्षक दिए। जिसके आधार पर सभी बच्चों ने अपने विचार भी अभिव्यक्त किए। एक खेल में कागज़ के माध्यम से सभी बच्चों को टोपी बनाना सिखाया। बच्चों ने टोपी बनाई, सिर पर लगाई और ‘टोपी वाली कहानी’ सुनी। ऐसे करते-करते कहानी को पल भर में जी लिया। बच्चों ने स्वरचित कहानी-कविताएँ भी सुनाईं और जिस बच्चे ने सबसे अच्छी सुनाई उसे पुरस्कृत भी किया गया।




उदय किरोला के साथ विश्व भारती में

विद्यालय की प्रधानाचार्या सुनीता सिंह ने कहा कि यह सचमुच अभिनव प्रयोग है। जितनी देर ये खेल हुए उतनी देर बच्चों के चेहरे खिलखिलाते रहे और इसी खिलखिलाहट के साथ उन्होंने कविता-कहानी का प्रस्तुतिकरण करना सीख लिया। मनोरंजन और खेल के साथ नवीन ज्ञान प्रदान करना बच्चों के लिए रुचिकर होता है जो कि इस आयोजन में दिखा।

पला स्थित महर्षि विद्या मन्दिर में शाहजहाँपुर से आए बाल साहित्यकार डॉ. नागेश पाण्डेय ‘संजय’ से बच्चों ने बहुत सारे प्र्श्न किए। प्रश्नों के माध्यम से बच्चे यह जानने के इच्छुक थे कि रचनाएँ किस तरह बेहतर लिखी जाएँ। नागेश पाण्डेय ने बच्चों को अपनी कविता सुनाई। सभी बच्चों ने उस कविता को एक साथ दोहराया भी। कई बच्चों ने अपनी स्वरचिता कविता सुनाई जिसे सुनकर उन्होंने कहा कि बच्चों का स्वयं रचना प्रशंसनीय है।


उदय किरोला और बच्चे

विद्यालय की प्रधानाचार्या ने कहा कि हमें आज गर्व का अनुभव हो रहा है कि हमारे विद्यालय के बच्चों के बीच ऐसे बाल साहित्यकार मौजूद हैं। विद्यालय में साहित्यकारों के साथ बच्चों की बातें होना बच्चों को प्रेरणा प्रदान करता है।

आगरा रोड स्थित शिप्रस स्कूल में खटीमा से आए बाल साहित्यकार रावेन्द्रकुमार ‘रवि’ ने बच्चों को कविता-कहानी लिखना सिखाया। कई बच्चों ने अपनी स्वरचित कविता-कहानी सुनाईं। बच्चों ने रावेन्द्रकुमार ‘रवि’ से लेखन के संबंध में अनेकों प्रश्न किए जिसका उत्तर पाकर बच्चे बेहद खुश थे।

विद्यालय की प्रधानाचार्या जयमाला वर्मा ने कहा कि बच्चों की लेखन के प्रति जिज्ञासा देखकर खुशी होती है। बच्चे कविता-कहानी लिखना चाहते हैं और जब ऐसे बाल साहित्यकार उनके बीच हों और मार्गदर्शन प्रदान करें तो निश्चित ही ये बच्चे बेहतर लेखन कर सकेंगे।

आयोजन में अभिनव बालमन पत्रिका के निश्चल, पल्लव शर्मा, आशीष, देवाशीष, सुशांत, राहुल, अपूर्व, पल्लव अरोरा, अतुल शर्मा, अमिता माहेश्वरी, संध्या शर्मा, चन्द्रलोक का महत्वपूर्ण सहयोग रहा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें