अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.12.2016


"अभिव्यक्ति 2016" में मिला रचनात्मकता को मंच
पल्लव

अलीगढ़ - बाल रचनाकारों की राष्ट्रीय पत्रिका "अभिनव बालमन" द्वारा आगरा रोड स्थित महर्षि विद्या मन्दिर में "अभिव्यक्ति 2016" का आयोजन किया गया। जिसमें 88 बाल रचनाकारों ने कहानी एवं चित्रकला के माध्यम से अपनी रचनात्मकता को अभिव्यक्त किया।

कविता में युवा कविता आशीष द्वारा बाल रचनाकारों को कविता लेखन की बारीकियाँ समझाईं। इन बारीकियों को समझकर बाल रचनाकारों ने पेड़ों को मत काटो भाई, जोकर, नुमाइश, कितने हैं रंग, प्यारी मछली, बन्दर आया, छतरी, बारिश आई, होली, तितली रानी जैसी सुन्दर कविताओं की रचना की।

कहानी में पल्लव शर्मा ने बाल रचनाकारों से कहा कि हमें कहानी लिखने से पहले कहानियाँ पढ़नी चाहिएँ। जितना पढ़ेंगे उतना कहानी लिखने में आसानी रहेगी। कहानी लिखने से पहले हमें नए विषयों को खोजना चाहिए ताकि कहानी में नयापन भी आए। बाल रचनाकारों ने होशियार भूमिका, सैंकी कछुआ, पेड़ बोल पड़ा, बलवान चूहा, अच्छे बच्चे, सच्चे दोस्त आदि कहानियों की रचना की।

चित्रकला में बाल रचनाकारों ने बाल-मन, डोरेमोन, मिक्की माउस जैसे गुदगुदाते कार्टून केरेक्टर्स के साथ पर्यावरण को बेहतर बनाने के संदेश देते पोस्टर, ट्रेन, बिल्डिंग, मोटर साईकिल, प्रकृति चित्रण आदि का अपनी कल्पना के आधार पर चित्रण किया। रंग-बिरंगे चित्र आकर्षित होने के साथ-साथ संदेश भी प्रदान कर रहे थे। इस तरह बालमन की गहराई को अभिव्यक्त करने वाले ये चित्र सभी को अच्छे लगे।

विद्यालय के प्रधानाचार्य अनिल शर्मा ने कहा कि ऐसे आयोजन से बच्चों को आनंद भी आता है एवं उनकी रचनात्मकता भी निखरती है।

आयोजन में विद्यालय के राजेश पालीवाल, अंजली सक्सैना, आस्था शर्मा एवं अभिनव बालमन टीम के अपूर्व, पल्लव अरोरा, राहुल का महत्वपूर्ण सहयोग रहा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें