अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.25.2007
 

हँस-हँस गाने गाएँ हम !
कवि : डॉ. महेन्द्र भटनागर

हम ....
डॉ. महेन्द्र भटनागर

हम छोटे - छोटे भोले - भाले सारे बाल
पढ़-लिख पर जल्द बनगे वीर जवाहरलाल !
अच्छे-अच्छे काम करेंगे
नहीं किसी से ज़रा डरेंगे
दुनिया म कुछ नाम करेंगे
भारत-माता को कर देंगे हम मालामाल !
पढ़-लिख कर जल्द बनेंगे वीर जवाहरलाल!
हम छोटे - छोटे भोले - भाले सारे बाल !
जन-जन का दुख दूर करेंगे
सेवा हम भरपूर करेंगे
बाधा चकनाचूर करेंगे
झूठे धोखेबाजों की नहीं गलेगी दाल !
पढ़-लिख कर जल्द बनेंगे वीर जवाहरलाल !
हम छोटे - छोटे भोले - भाले सारे बाल !

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें