अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.25.2007
 

हँस-हँस गाने गाएँ हम !
कवि : डॉ. महेन्द्र भटनागर

बादल
डॉ. महेन्द्र भटनागर

ये घनघोर बरसते श्यामल-बादल !

निर्भय नभ में उमड़-घुमड़ कर छाए,
देख धरा ने नाना रूप सजाए,
स्वागत करने नव-वृक्ष उमग आए,
पल्लव-पल्लव में आज मची हलचल !
ये घनघोर बरसते श्यामल-बादल !

नदियाँ जल से पूर गयीं मटमैली,
गिट्टक-टिल्लू ने मिल होली खेली,
हाथों में कागज की नावें ले लीं,
सड़कों पर पानी, गलियों में दलदल !
ये घनघोर बरसते श्यामल-बादल !

तालों पर मेंढक करते टर-टर-टर,
दीपक पर दीमक उड़ती फर-फर-फर,
आओ झूला झूलें जी भर-भर कर,
सुख पाएँ वर्षा का सब बाल-सरल !
ये घनघोर बरसते श्यामल-बादल !

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें