अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.07.2008
तारों के गीत
कवि : डॉ. महेन्द्र भटनागर

संध्या के पहले तारे से
डॉ. महेन्द्र भटनागर


शून्य नभ में है चमकता आज क्यों बस एक तारा ?

जब कि क्षण-क्षण पर प्रगति कर रात आती जा रही है,
चंद्र की हँसती कला भी ज्योति क्रमशः पा रही है,
हो गया है जब तिमिरमय विश्व का कण-कण हमारा !
शून्य नभ में है चमकता आज क्यों बस एक तारा ?

बादलों की भी न चादर छा रही विस्तृत निलय में,
और टुकड़े मेघ के भी, हो नहीं जिसके हृदय में,
है नहीं कोई परिधि भी, स्वच्छ है आकाश सारा !
शून्य नभ में है चमकता आज क्यों बस एक तारा ?

जब कि है गोधूलि के पश्चात का सुन्दर समय यह,
हो गये क्यों डूबती रवि-ज्योति में विक्षिप्त लय यह ?
बन गयी जो मुक्त नभ के तारकों को सुदृढ़ कारा !
शून्य नभ में है चमकता आज क्यों बस एक तारा ?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें