अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.24.2008
तारों के गीत
कवि : डॉ. महेन्द्र भटनागर

ज्योति-कुसुम
डॉ. महेन्द्र भटनागर


फूल ही
बस फूल की रे,
एक हँसती
खिलखिलाती,
वायु से औ‘ आँधियों से
काँपती
हिलती
सिहरती
यह लता है !
यह लता है !

देह जिसकी बाद पतझर के
नवल मधुमास के,
नव कोपलों-सी,
शुद्ध, उज्ज्वल, रसमयी
कोमल, मधुरतम !

आ कभी जाता प्रभंजन
बेल के कुछ फूल
या लघु पाँखुड़ी सूखी
गँवाकर ज्योति, जीवन शक्ति सारी,
मौन झर जातीं गगन से !

या कभी
जन स्वर्ग के आ,
अर्चना को,
तोड़ ले जाते कुसुम,
इस बेल से,
जो विश्व भर में छा रही है
नाम तारों की लड़ी बन !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें