अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.24.2008
तारों के गीत
कवि : डॉ. महेन्द्र भटनागर

अबुझ
डॉ. महेन्द्र भटनागर


ये कब बुझने वाले दीपक ?

अविराम अचंचल, मौन-व्रती ये युग-युग से जलते आये,
लाँघ गये बाधाओं को, ये संघर्षों में पलते आये,
रोक न पाये इनको भीषण पल भर भी तूफान भयंकर
मिट न सके ये इस जगती से, आये जब भूकम्प बवंडर !

झंझा का जब दौर चला था लेकर साथ विरुद्ध-हवाएँ,
ये हिल न सके, ये डर न सके, ये विचलित भी हो ना पाए!
ये अक्षय लौ को केन्द्रित कर हँस-हँस जलने वाले दीपक !
                          ये कब बुझने वाले दीपक ?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें