अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
09.15.2007

राग-संवेदन

रचनाकार : डा. महेंद्र भटनागर

तुलना
डॉ. महेंद्र भटनागर

जीवन
कोई पुस्तक तो नहीं
कि जिसे
सोच-समझ कर
योजनाबद्ध ढंग से
लिखा जाए / रचा जाए!
उसकी विषयवस्तु को -
क्रमिक अध्यायों में
सावधानी से बाँटा जाए
,
मर्मस्पर्शी प्रसंगों को छाँटा जाए!
स्व-अनुभव से
, अभ्यास से
सुन्दर व कलात्मक आकार में
         ढाला जाए,
शैथिल्य और बोझिलता से बचा कर
चमत्कार की चमक में उजाला जाए!
जीवन की कथा
स्वतः बनती-बिगड़ती है
पूर्वापर संबंध नहीं गढ़ती है!
कब क्या घटित हो जाए
कब क्या बन-सँवर जाए
,
कब एक झटके में
सब बिगड़ जाए!
जीवन के कथा-प्रवाह में
कुछ भी पूर्व-निश्चित नहीं
,
अपेक्षित-अनपेक्षित नहीं
,
कोई पूर्वाभास नहीं
,
आयास-प्रयास नहीं!
खूब सोची-समझी
शतरंज की चालें
दूषित संगणक की तरह
चलने लगती हैं
,
नियंत्रक को ही
  
   छलने लगती हैं
जीती बाजी
हार में बदलने लगती है!
या अचानक
अदृश्य हुआ वर्तमान
पुनः उसी तरतीब से
उतर आता है
भूकम्प के परिणाम की तरह!
अपने पूर्ववत् रूप-नाम की तरह!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें