अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
09.16.2007

राग-संवेदन

रचनाकार : डा. महेंद्र भटनागर

(18) आसक्ति
डॉ. महेंद्र भटनागर

भोर होते -
द्वार वातायन झरोखों से
उचकतीं-झाँकतीं उड़तीं
मधुर चहकार करतीं
सीधी सरल चिड़ियाँ
         जगाती हैं,
         उठाती हैं मुझे!

रात होते
निकट के पोखरों से
आ – आ
कभी झींगुर; कभी दर्दुर
गा – गा
         सुलाते हैं,
         नव-नव स्वप्न-लोकों में
         घुमाते हैं मुझे!

दिन भर -
रँग-बिरंगे दृश्य-चित्रों से
मोह रखता है
         अनंग-अनंत नीलाकाश!

रात भर -
नभ-पर्यंक पर
रुपहले-स्वर्णिम सितारों की छपी
         चादर बिछाए
सोती ज्योत्स्ना
कितना लुभाती है!
अंक में सोने बुलाती है!

ऐसे प्यार से
मुँह मोड़ लूँ कैसे?
धरा -     इतनी मनोहर
 दूँ कैसे?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें