अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
11.22.2007

राग-संवेदन
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

सिफत
डॉ. महेंद्र भटनागर

यह
आदमी है -
हर मुसीबत
                झेल लेता है!
विरोधी आँधियों के
दृढ़ प्रहारों से,
विकट विपरीत धारों से
निडर बन
                 खेल लेता है!
उसका वेगवान् अति
गतिशील जीवन-रथ
कभी रुकता नही,
चाहे कहीं धँस जाय या फँस जाय;
अपने
बुद्धि-बल से / बाहु-बल से
वह बिना हारे-थके
             अविलम्ब पार धकेल लेता है!
यह
आदमी है / संयमी है
आफ़तें सब झेल लेता है!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें