अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
11.22.2007

राग-संवेदन
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

स्वप्न
डॉ. महेंद्र भटनागर

पागल सिरफिरे
किसी भटनागर ने
माननीय प्रधान-मंत्री ......... की
हत्या कर दी,
भून दिया गोली से!!
खबर फैलते ही
लोगों ने घेर लिया मुझको -
‘भटनागर है,
मारो ... मारो ... साले को!
हत्यारा है ... हत्यारा है!’
मैंने उन्हें बहुत समझाया
चीख-चीख कर समझाया -
भाई, मैं वैसा ‘भटनागर’ नहीं!
अरे, यह तो फकत नाम है मेरा,
उपनाम (सरनेम) नहीं!
मैं
‘महेंद्रभटनागर हूँ,
या ‘महेंद्र’ हूँ
भटनागर-वटनागर नहीं,
भई, कदापि नहीं!
जरा, सोचो-समझो।
लेकिन भीड़ सोचती कब है?
तर्क सचाई सुनती कब है?
सब टूट पड़े मुझ पर
और राख कर दिया मेरा घर!!
इतिहास गवाही दे -
किन-किन ने / कब-कब / कहाँ-कहाँ
झेली यह विभीषिका,
यह जुल्म सहा?
कब-कब / कहाँ-कहाँ
दरिन्दगी की ऐसी रौ में
मानव समाज
हो पथ-भ्रष्ट बहा?
वंश हमारा
धर्म हमारा
जोड़ा जाता है क्यों
नामों से, उपनामों से?
कोई सहज बता दे -
ईसाई हूँ या मुस्लिम
या फिर हिन्दू हूँ
(कार्यस्थ एक,
शूद्र कहीं का!)
कहा करे कि
‘नाम है मेरा - महेंद्रभटनागर,
जिसमें न छिपा है वंश, न धर्म!’
(न और कोई मर्म!)
अतः कहना सही नहीं -
‘क्या धरा है नाम में!’
अथवा
‘जात न पूछो साधु की!’
हे कबीर!
क्या कोई मानेगा बात तुम्हारी?
आखर,
कब मानेगा बात तुम्हारी?
‘शिक्षित’ समाज में,
‘सभ्य सुसंस्कृत’ समाज में
आदमी - सुरक्षित है कितना?
आदमी - अरक्षित है कितना?
हे सर्वज्ञ इलाही,
             दे, सत्य गवाही!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें