अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.17.2009
004
कुछ ज्ञात कुछ अज्ञात

अपने-पराए
डॉ. अनिल चड्डा


जब
विश्वास ही
अपने न हुए
तो
अविश्वासों का
ज़िक्र क्या करूँ!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें