अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.28.2008

जीने के लिए
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

मंत्र
डॉ. महेंद्र भटनागर

स्थापित हो
समता
मानव-मानव में समता
युग-युग वांछित-इच्छित समता !

प्रजाति-जाति-वर्ण-धर्म मुक्त
हो मनुष्य-लोक,
हो नहीं
मनुष्य के मिलाप में
भेद-भाव, रोक-टोक !

पहचान मनुज की
मात्र एक -
मानव तन, मानव मन।
अनुभव-चिन्तन से
उपजे विवेक
पहचान मनुज की
मात्र एक।

अवतरित हो
ममता
मानव-मानव में ममता
मादक मादन मायल ममता।

ध्वस्त करो
अन्धी पौराणिकता
मानव-मानव के प्रति पाशविकता।

मानव ! मत भटको अब,
कल्पित भाग्य-विधानों पर
मानव ! मत अटको अब।

मूरखता, मूरखता, मूरखता।
केवल वंचकता, वंचकता।
इससे मुक्त करो
जीवन और मनुज को,
धृष्ट-दुष्ट
धर्मध्वजियों धूर्तों से
रक्षित हो मानवता।
हो सदा-सदा को दूर
विषमता,
जागे दलितों में
अपराजित अद्‌भुत क्षमता।

स्थापित हो
इंसानी दुनिया में
खुशहाली
माली समता,
सामूहिक सामाजिक
गौरवशाली समता।

 


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें