अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.28.2008

जीने के लिए
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

माहौल
डॉ. महेंद्र भटनागर

देश के असली खेवनहार-
नेता अफ़सर ठेकेदार !
सारी दौलत के हक़दार,
राष्ट्र-भक्त झण्डाबरदार !
इनकी तिकड़म का संसार
करदे शासन को लाचार,
हमको तुमको बे-घरबार
ये मशहूर बड़े बटमार !
दुष्टाचारी हैं मक्कार,
है धिक्कार इन्हें धिक्कार !

.....
गूँजी किसकी यह ललकार-
जागी जनता, भागो यार !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें