अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.28.2008

जीने के लिए
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

अग्नि-परीक्षा
डॉ. महेंद्र भटनागर

काली भयानक रात,
चारों ओर
झंझावात,
पर,
जलता रहेगा-
दीप...
मणिदीप
                 सद्‌भाव का,
                 सहभाव का !
उगती जवानी
देश की
होगी नहीं गुमराह !
उजले देश की
जाग्रत जवानी
लक्ष्य युग का भूल
होगी नहीं गुमराह
तनिक तबाह !

मिटाना है उसे-
जो कर रहा हिंसा,
मिटाना है उसे-
जो धर्म के उन्माद में
फैला रहा नफ़रत,
लगाकर घात
गोली दाग़ता है
राहगीरों पर
बेक़सूरों पर !
मिटाना है उसे-
जिसने बनायी ;
धधकती बारूद-घर
दरगाह !
                 इन गंदे इरादों से
                 नये युग की जवानी
                 तनिक भी
                 होगी नहीं गुमराह !

चाहे रात काली और हो,
चाहे और भीषण हों
चक्रवात-प्रहार,
पर,
सद्‌भाव का : सहभाव का
ध्रुव-दीप
मणि-दीप
निष्कम्प
जलता रहेगा !
                 साधु जीवन की
                 सतत साधक जवानी
                 आधुनिक,
                 होगी नहीं गुमराह !

भले ही
वज्रवाही बदलियाँ छाएँ,
भले ही
वेगवाही आँधियाँ आएँ,
सद्‌भावना का दीप
सम्यक्‌ धारणा का दीप
संशय-रहित हो
अविराम
           यथावत्
           जलता रहेगा !
           एक पल को भी
           न टूटेगा
           प्रकाश-प्रवाह !
                 विचलित हो,  
                 नहीं होगी   
                 जवानी देश की
                 गुमराह !

उभरीं विनाशक शक्तियाँ
जब-जब,
मनुजता ने
दबा कुचला उन्हें
तब-तब !

अमर-
विजय विश्वास !
इतिहास
चश्मदीद गवाह !
जलती जवानी देश की
होगी नहीं
गुमराह !

एकता को
तोड़ने की साज़िशें
नाकाम होंगी,
हम रहेंगे
एक राष्ट्र अखंड
शक्ति प्रचंड !

सहन
हरगिज़ नहीं होगा
देश के प्रति
छल-कपट
विश्वासघात
गुनाह !
                 मेरे देश की
                 विज्ञान-आलोकित जवानी
                 अंध-कूपों में
                 कभी होगी नहीं गुमराह !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें