अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.01.2008

जीने के लिए
रचनाकार
: डा. महेंद्र भटनागर

कविता-प्रार्थना
डॉ. महेंद्र भटनागर

आदमी को
आदमी से जोड़ने वाली,
क्रूर हिंसक भावनाओं की
उमड़ती आँधियों को
              मोड़ने वाली,
उनके प्रखर
अंधे वेग को - आवेग को
बढ़
तोड़ने वाली
सबल कविता
              ऋचा है,
              इबादत है !

उसके स्वर
मुक्त गूँजें आसमानों में,
उसके अर्थ
ध्वनित हों
सहज निश्छल
मधुर रागों भरे
अन्तर-उफ़ानों में !

आदमी को
आदमी से प्यार हो,
सारा विश्व ही
उसका निजी परिवार हो !

हमारी यह
बहुमूल्य वैचारिक विरासत है !
महत्
इस मानसिकता से
रची कविता
              ऋचा है,
              इबादत है !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें