अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.16.2009
जन-गण-मन
द्विजेन्द्र ’द्विज’
20

नींव जो भरते रहे हैं आपके आवास की
द्विजेन्द्र ‘द्विज’


नींव जो भरते रहे हैं आपके आवास की
ज़िन्दगी उनकी कथा है आज भी बनवास की

जिन परिन्दों की उड़ाने कुन्द कर डाली गईं
जी रहे हैं टीस लेकर आज भी निर्वास की

तोड़कर मासूम सपने आने वाली पौध के
नींव रक्खेंगे भला वो कौन से इतिहास की

वह उगी ,काटी गई, रौंदी गई, फिर भी उगी
देवदारों की नहीं औकात है यह घास की

वह तो उनके शोर में ही डूब कर घुट्ता रहा
क़हक़हों ने कब सुनी दारुण कथा संत्रास की

तब यक़ीनन एक बेहतर आज मिल पाता हमें
पोल खुल जाती कभी जो झूठ के इतिहास की

आपके ये आश्वासन पूरे होंगे जब कभी
तब तलक तो सूख जाएगी नदी विश्वास की

अनगिनत मायूसियों, ख़ामोशियों के दौर में
देखना ‘द्विज’, छेड़ कर कोई ग़ज़ल उल्लास की।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें