अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.16.2009
जन-गण-मन
द्विजेन्द्र ’द्विज’
5

हर क़दम पर खौफ़ की सरदारियाँ रहने लगें
द्विजेन्द्र ‘द्विज’


हर क़दम पर खौफ़ की सरदारियाँ रहने लगें
क़ाफ़िलों में जब कभी ग़द्दारियाँ रहने लगें

नीयतें बद और कुछ बदकारियाँ रहने लगें
सरहदों पर क्यों न गोलाबारियाँ रहने लगें

हर तरफ़ लाचारियाँ, दुशवारियाँ रहने लगें
सरपरस्ती में जहाँ मक्कारियाँ रहने लगें

हर तरफ़ ऐसे हक़ीमों की अजब-सी भीड़ है
चाहते हैं जो यहाँ बीमारियाँ रहने लगें

फिर खुराफ़त के ही जंगल क्यों न उग आएँ वहाँ
जेह्न में अकसर जहाँ बेकारियाँ रहने लगें

क्यों न सच आकर हलक में अटक जाए कहो
गरदनों पर जब हमेशा आरियाँ रहने लगें

उनकी बातों में है जितना झूठ सब जल जाएगा
आपकी आँखों में गर चिंगारियाँ रहने लगें

है महक मुमकिन तभी सारे ज़माने के लिए
सोच में ‘द्विज’, कुछ अगर फुलवारियाँ रहने लगें।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें