अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
12.24.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

हक़ीक़त में हमदर्द है वो हमारा
देवी नागरानी

हक़ीक़त में हमदर्द है वो हमारा
बुरे वक़्त में आके दे जो सहारा।

कभी साहिलों से भी उठते हैं तूफां
कभी मौज़े-तूफां में पाया किनारा।

दबी चीख़ जब भी सुनी हसरतों की
कभी आँख रोई, कभी दिल हमारा।

ये किस मोड़ पर ज़िंदगी लेके आई
खुशी है गवारा, न ग़म है गवारा।

कभी बद्दुआओं ने दी ज़िंदगानी
कभी तो तुम्हारी दुआओं ने मारा।

मेरी ज़िंदगी में बहार आ रही है
तुम्हारे तबस्सुम ने शायद पुकारा।

मुझे डर है देवी तो बस दोस्तों से
मुझे दुशमनों ने दिया है सहारा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें