अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
12.24.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

नहीं उसने हरगिज रज़ा रब की पाई
देवी नागरानी

नहीं उसने हरगिज रज़ा रब की पाई
न जिसने कभी हक की रोटी कमाई।

रहे खटखटाते जो दर हम दया के
दुआ बनके उजली किरण मिलने आई।

मिली है वहाँ उसको मंज़िल मुबारक
जहाँ जिसने हिम्मत की शम्अ जलाई।

खुदी को मिटाकर खुदा को है पाना
हमारी समझ में तो ये बात आई।

रहा जागता जो भी सोते में देवी
मुक़द्दर की देता नहीं वो दुहाई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें