अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
02.07.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

न सावन है न भादों है न बादल का ही साया है
देवी नागरानी

न सावन है न भादों है न बादल का ही साया है
मेरे अश्कों से लेकिन एक इक ज़र्रा नहाया है।

जिसे तू देख कर घबरा रहा है ऐ मेरे हमदम
नहीं है ये तेरा दुश्मन, ये तेरा ही तो साया है।

जो बरसों से सजाकर थी रखी तस्वीर आँखों में
उसी तस्वीर ने मेरा सुकूने-दिल चुराया है।

ज़माने में कहाँ होती हैं पूरी चाहतें सबकी
मुकम्मल कौन-सी शै है, किसीने जिसको पाया है।

हुईँ नम क्यों ये आँखें बैठकर इस बज्म में ‘देवी’
किसीने ग़म को सुर और ताल में गा कर सुनाया है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें