अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
02.07.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

नगर पत्थरों का नहीं आशना है
देवी नागरानी

नगर पत्थरों का नहीं आशना है
मैं हूँ इसमें जिंदा मगर दिल मरा है।

न मेरी वो सुनते न अपनी सुनाते
न जाने खुदा को मेरे क्या हुआ है।

रहा लूटता वो वफ़ा के बहाने
ये माना अभी वो सनम बेवफ़ा है।

न छोटी खुशी से कभी मोड़ना मुँह
कि सुकरात का जाम हमको अता है।

मुझे छोड़ कर सबने पाए है मोती
नसीबों को शायद हमीं से गिला है।

न मायूस हो ज़िंदगी से ऐ ‘देवी’
यही एक जीने का मौसम भला है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें