अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

कुछ तो इसमें भी राज़ गहरे हैं
देवी नागरानी

कुछ तो इसमें भी राज़ गहरे हैं
कहते गूँगे हैं सुनते बहरे हैं।

रिश्ते रिश्तों को अब भी ठगते है
झूठ के जब से सच पे पहरे हैं।

मेरी फ़रियाद कोई कैसे सुने
जो भी बैठे हैं लोग बहरे हैं।

लब हिलाना भी जुर्म ठहराया
मेरे होंटों पे गोया पहरे हैं।

फूल झड़ते हैँ उनकी बातों से
लफ़्ज जितने है सब सुन्हरे हैं।

वक़्त मरहम न बन सका अब तक
ज़ख़्म जितने भी हैं वो गहरे हैं।

ख़्वाब रेशम के बुन रही ‘देवी’
रात चाँदी, तो दिन सुनहरे हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें