अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

क्या बताऊँ तुम्हें मैं कैसी हूँ
देवी नागरानी

क्या बताऊँ तुम्हें मैं कैसी हूँ
पीती रहती हूँ फिर भी प्यासी हूँ।

तुम इन्हें अश्क मत समझ लेना
बनके आँसू मैं खुद ही बहती हूँ।

सामना उनसे हो नहीं सकता
बस इसी से उदास रहती हूँ।

भर गया दिल मेरा तो अपनों से
अब तो गैरों की राह चलती हूँ।

मेरी फ़ितरत अजीब है ‘देवी’
कोई तड़पे तो मैं तड़पती हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें