अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

ज़िंदगी इस तरह से जीता हूँ
देवी नागरानी

ज़िंदगी इस तरह से जीता हूँ
जैसे हर वक़्त ज़हर पीता हूँ।

हाल दिल का सुनाके क्या हासिल
क्या करूँ अपने होंठ सीता हूँ।

ऐसा जीना भी कोई जीना है
रोज़ मरता हूँ, रोज़ जीता हूँ।

इल्म अपना हुआ तो जाना है
मैं ही कुरआन, मैं ही गीता हूँ।

है अयोध्या बसी मेरे मन में
वो तो है राम, मैं तो सीता हूँ।

दर्द साँझा जो सबका है ‘देवी’
मैं वही दर्द लेके जीता हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें