अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

सुनामी की ज़द में रही जिंदगानी
देवी नागरानी

सुनामी की ज़द में रही जिंदगानी
बहाती रहीं अश्क आँखें दिवानी।

हुईं धुंधली शक्लें ख़ुद अपनी नज़र में
हुई ख़त्म जेसे सुहानी कहानी।

भयानक वो मंजर, वो ख़ूंखार लहरें
था जब खून का प्यासा बारिश का पानी।

बुने ख्वाब, और कितने अरमाँ सजाए
सभी बह गये आँख से बन के पानी।

दबी खौफ से चीख सीने के अंदर
जो मौजों की देखी भयानक रवानी।

कई बह गये ‘देवी’ सपने सुहाने
वो बारिश थी या आफ़ते नागहानी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें