अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

बिजलियाँ यूँ गिरीं उधर जैसे
देवी नागरानी

बिजलियाँ यूँ गिरीं उधर जैसे
उजड़ा अरमान का शजर जैसे।

दिन को लगता था रात ने लूटा
ऐन हैरत में था क़मर जैसे।

ख़वाब पलकों पे जो सजाए कल
आज टूटे, लगी नज़र जैसे।

तेरी यादों के साये थे शीतल
हो गई धूप बेअसर जैसे।

दिल्लगी दिल से किसने की है यूँ
जिंदगानी गई ठहर जैसे।

उस तरह मैं कभी न जी पाई
ज़िंदगी ने मुझे जिया जैसे।

हमको ज़िंदा न तू समझ ‘देवी’
दम निकलता है हर पहर जैसे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें