अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

वफ़ाओं पे मेरी जफ़ा छा गई
देवी नागरानी

वफ़ाओं पे मेरी जफ़ा छा गई
तबीयत मुहब्बत से उकता गई।

करेगा न रोटी तलब पेट अब
कि ग़ुरबत मेरी भूख को खा गई।

ग़ज़ब है मिलीं मुख़तलिफ फितरतें
मुहबत गुलो - ख़ार को भा गई।

पिलाती रही ज़हर के जाम जो
वही ज़िंदगी मुझको रास आ गई।

छुपाया है ‘देवी’ उसे इस तरह
हक़ीक़त मगर सामने आ गई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें