अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
01.18.2009

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

फिर खुला मैंने दिल का दर रक्खा
देवी नागरानी

फिर खुला मैंने दिल का दर रक्खा
ख्वाहिशों से सजाके घर रक्खा।

मैं निगेहबाँ बनी थी औरों की
ज़िंदगानी को दाव पर रक्खा।

छलनी छलनी किया जिगर मेरा
मुझको उसने निशान पर रक्खा।

कहना चाहा, न कुछ भी कह पाये
ज़ब्त हमने ज़बान पर रक्खा।

सोचना छोड़ अब तो ऐ ‘देवी’
फैसला जब अवाम पर रक्खा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें