अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
12.24.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

वो नींद में आना भूल गए
देवी नागरानी

वो नींद में आना भूल गए
हम ख़्वाब सजाना भूल गए।

दरिया तक दिल को ले आए
पर प्यास बुझाना भूल गए।

कुछ ऐसे उलझे ख़ारों में
दामन को बचाना भूल गए।

कुछ राह में ऐसे मोड़ मिले
घर वापस आना भूल गए।

दीवार कुरेदी यादों की
और ज़ख्म दिखाना भूल गए।

कस्में भी हमें कुछ याद नहीं
रस्में भी निभाना भूल गए।

पल भर में बदलता है मंज़र
हम याद दिलना भूल गए।

इस जीने की उलझन में ‘देवी’
बचपन का ज़माना भूल गए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें