अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
12.24.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

दिल अकेला कहाँ रहा होगा
देवी नागरानी

दिल अकेला कहाँ रहा होगा
फिक्र का साथ काफ़िला होगा।

याद की बज़्म में जो रहता हूँ
कुछ तो उनसे भी वास्ता होगा।

साथ सूरज के चाँद तारे हों
रात-दिन में न फ़ासला होगा।

कुछ करिश्मे अजीब अनदेखे
कुछ न कुछ उन का क़ायदा होगा।

उम्र भर का सफ़र है जीवन ये
‘मौत’ मंज़िल है, सामना होगा।

साथ अपना निभा सकें कैसे
ख़ुद से जब तक न राबता होगा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें