अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
12.24.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

है गर्दिश में क़िस्मत का अब भी सितारा
देवी नागरानी

है गर्दिश में क़िस्मत का अब भी सितारा
कभी तो डुबोया कभी तो उभारा।

दबे पाँव तूफ़ान आए हैं कैसे
न कोई ख़बर थी न कोई इशारा।

अचानक ये झड़ने लगे फूल पते
अचानक बदलने लगा है नज़ारा।

यहीं छोड़ कर सब चले जाएँगे हम
रहेगा कहीं भी न कुछ भी हमारा।

मुझे मेरे रब का सहारा मिला है
नहीं चाहिये अब किसी का सहारा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें