अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.28.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

ये सायबां है जहां, मुझको सर छुपाने दो
देवी नागरानी

ये सायबां है जहां, मुझको सर छुपाने दो
करम ख़ुदा का है सब पर, वो आज़माने दो।

जो दिल के तार न छेड़े थे हमने बरसों से
उन्हें तो आज अभी छेड़ कर बजाने दो।

ख़फा न तुम हो किसी से भी देखकर काँटे
कि फूल कहता है जो कुछ, उसे बताने दो।

कभी तो दर्द भुलाकर भी मुस्कराओ तुम
न दर्द के वो पुराने कभी बहाने दो।

ख़फ़ा हुई है खुशी इस क़दर भी क्यों हमसे
ग़मों का जश्‌ने-मुबारक हमें मनाने दो।

उदासियों को छुपाओ न दिल में तुम ‘देवी’
कभी लबों को भी कुछ देर मुस्कराने दो।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें