अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.27.2008

चरागे-दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

जाने क्या कुछ हुई ख़ता मुझसे
देवी नागरानी

जाने क्या कुछ हुई ख़ता मुझसे
रूठा वो बे सबब न था मुझसे।

जिसको हासिल न कुछ हुआ मुझसे
मौन का अर्थ पूछता मुझसे।

लोग क्या जाने जानने आए
नाता जिनका न था जुड़ा मुझसे।

जिसने रक्खा था कै़द में मुझको
खुद रिहाई था चाहता मुझसे।

ना-शनासों की बस्तियों में, कब
किसने रक्खा है राब्ता मुझसे।

सिलसिला राहतों का टूट गया
दिल की धड़कन हुई खफ़ा मुझसे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें