अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.08.2008

चराग़े - दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

तू न था कोई और था फिर भी
देवी नागरानी

तू न था कोई और था फिर भी
याद का सिलसिला चला फिर भी।

शहर सारा है जानता फिर भी
राह इक बार पूछता फिर भी।

ख़ाली दिल का मकान था फिर भी
कुछ न किसको पता लगा फिर भी।

याद की कै़द में परिंदा था
कर दिया है उसे रिहा फिर भी।

ज़िंदगी को बहुत सँभाला था
कुछ न कुछ टूटता रहा फिर भी।

गो परिंदा वो दिल का घायल था
सोच के पर लगा उड़ा फिर भी।

तोहमतें तू लगा मगर पहले
फ़ितरतों को समझ ज़रा फिर भी।

कर दिया है ख़ुदी से घर खाली
क्यों न ‘देवी’, ख़ुदा रहा फिर भी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें