अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.08.2008

चराग़े - दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

लबों पर गिले यूँ भी आते रहे हैं
देवी नागरानी

लबों पर गिले यूँ भी आते रहे हैं
तुम्हारी जफ़ाओं को गाते रहे हैं।

कभी छाँव में भी बसेरा किया था
कभी धूप में हम नहाते रहे हैं।

रहा आशियां दिल का वीरान लेकिन
उम्मीदों की महफ़िल सजाते रहे हैं।

लिये आँख में कुछ उदासी के साये
तेरे ग़म में पलकें जलाते रहे हैं।

ज़माने से ‘देवी’ न हमको मिला कुछ
ज़माने से फिर भी निभाते रहे हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें