अन्तरजाल पर साहित्य
प्रेमियों की विश्राम स्थली
मुख्य पृष्ठ
06.08.2008

चराग़े - दिल
रचनाकार
: देवी नागरानी

आँधियों के भी पर कतरते हैं
देवी नागरानी

आँधियों के भी पर कतरते हैं
हौसले जब उड़ान भरते हैं।

गै़र तो गै़र हैं चलो छोड़ो
हम तो बस दोस्तों से डरते हैं।

जिंदगी इक हसीन धोका है
फिर भी हँस कर सुलूक करते हैं।

राह रौशन हो आने वालों की
हम चराग़ों में खून भरते हैं।

खौफ़ तारी है जिनकी दहशत का
लोग उन्हीं को सलाम करते हैं।

कल तलक सच के रास्तों पर थे
झूठ के पथ से अब गुज़रते हैं।

हम भला किस तरह से भटकेंगे
हम तो रौशन ज़मीर रखते हैं

आदमी देवता नहीं फिर भी
बन के शैतान क्यों विचरते हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें