अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.30.2007
चंदन-पानी
रचियता : दिव्या माथुर

सूरज और धरती
दिव्या माथुर


सुबह-सुबह होली खेला
सूरज धरती के संग
भरी धूप से पिचकारी
तो धरती रह गई दंग

न छेड़ने की फ़रियाद लिए
कसमसा के वह उठ बैठी
स्वच्छ ओस में नहाके झट
अँग अँग में फुर्ती पैठी

सूरज के भिजवाए गहने
चाव से पहने, निखरी
किरणों से शृंगार करा के
इतराती खेतों में फिरी

मृग मोरों के संग वह नाची
और झूमी अल्हड़ सरसों सी
कूक उठी कोयल सी कभी
तो कभी नदी के संग बही

साँझ ढली तो सूर्य अनमना
विदा माँगने आया जब
गहने वापिस कर वह बोली
अब ये प्रिय ले जाओ सब

तुमसे ही श्रृंगार है मेरा
तुम ही हो मेरा गहना
थके हो तुम भी सुस्ता लो अब
मान लो मेरा कहना

लौटा सूरज हौले हौले
धीमे धीमे साँझ ढली
सुबह मिलन की आस लिये
शयन को अपने धरा चली।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें