अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.08.2007
चंदन-पानी
रचियता : दिव्या माथुर

पिंजरा
दिव्या माथुर


चारों प्रहर
पहरे पर रहता है
तुम्हारा शक
मेरी दृष्टि की भी
तय कर दी है
तुमने सरहद
प्रणय तुम्हारा
लेके रहेगा मेरे प्राण
क्या मुझे मिलेगा कभी त्राण
आज़ाद है मन मेरा लेकिन
तन का छुटकारा सपना है
कैद तुम्हारी हो बेशक
पिंजरा तो मेरा अपना है.


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें