अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.30.2007
चंदन-पानी
रचियता : दिव्या माथुर

पहला प्यार
दिव्या माथुर


‘मिट्टी पड़े
तेरे पहले प्यार पर’
कहा था अम्मां ने
इक बार दुखी होकर
और ब्याह दिया था
मुझे बिदेश

पर न तो समय
और न ही दूरी
कर पाये धूमिल
रंग रूप गंध
सभी तो ताज़ा हैं
मिट्टी पड़े
मेरे पहले प्यार पर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें