अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.08.2007
चंदन-पानी
रचियता : दिव्या माथुर

दोहरा दो जो तुमने कहा
दिव्या माथुर


पोर पोर में फूल खिले हैं
रोम रोम खुशबू से भरा
नाच रहा है मन मेरा या
झूम रहे आकाश धरा

दिखे अधिक पीली मुझको
या किसी ने धो डाली सरसों
महक रही है क्यूँ इतनी
इतराती हुई ये ठंडी हवा

चाँदी की लहरें हैं पहने
धूप के क्यूँ महँगे गहने
है कोई त्योहार आज क्या
मुझको भी बतलाओ ज़रा

कलियों ने सिर दिये हिला
पत्ते बोले, ‘क्या हमें पता’
तुम ही जानो सखियों ने कहा
ये है किसका सब किया धरा

सुन लूँ जो पुरवाई कहे
या पढ़ लूँ जो पानी पे लिखा
मुझे रोक रही है शर्महया
दोहरा भी दो जो तुमने कहा.


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें