अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
बूँद-बूँद आकाश
डॉ. गौतम सचदेव
33

देश बेचोगे अगर होगा बहुत चोखा मुनाफ़ा
डॉ. गौतम सचदेव


देश बेचोगे अगर होगा बहुत चोखा मुनाफ़ा
सिर्फ़ रोकड़ में इसी व्यापार से होता इज़ाफ़ा

देश के दुख में सभी के सामने आँसू बहाना
लूटना फिर चैन से तुम नित्य जनता का सराफ़ा

घोषणा करना कि मेरा ध्येय है सबकी तरक़्क़ी
माल लेना जब दिखे नोटों भरा कोई लिफ़ाफ़ा

त्याग का मतलब तुम्हें केवल विदेशों में मिलेगा
घूमना सौ बार लेकिन बाँधकर धोती व साफ़ा

पालनी तुम ख़ानदानी नस्ल की बेदर्द जोंकें
लोग रोगों से बचेंगे हो जहाँ इनमें इजाफ़ा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें