अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
अन्तर्यात्रा
रचनाकार : डॉ. दीप्ति गुप्ता

सुख की हार
डॉ. दीप्ति गुप्ता


ऐ सुख मुझ पर, हँस मत इतना,
      मैंने दुख है, झेला कितना !
            काश ! कि तुझको मेरे दिल का होता
                        तनिक भी, दिल में ख्याल,
                               तो आकर मेरे, आँगन - में प्यार से लेता,
                                                          मुझे सम्हाल;
               पर तू दरवाजे, तक आता दस्तक दे,
                                   गायब हो जाता
                मैंने क्या अपराध किया है,
                            या तेरा, अपमान किया है ?
                                  जो तू मुझको, सता – सता कर,
                                             मेरी क्षमता, नाप रहा है !
                           मैं भी अब दुख में,
                 जल - जल कर तपते शोलों पे,
                 चल - चल कर लपट दहकती,
                                हो गई हूँ निशि - दिन,
                                     सुलगा करती हूँ,
                                         पर तेरी आस, न करती हूँ !!

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें