अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
अन्तर्यात्रा
रचनाकार : डॉ. दीप्ति गुप्ता
जीवन-सार
डॉ. दीप्ति गुप्ता

उजला दिन
        अँधियारी रात
                  ये दोनों जीवन के साथ
उत्थान, पतन,
       अपमान – मान
             रंगीन जश्न,
                  सूना श्मशान
                        ढलता सूरज,
                               उगता चाँद
                       कहता हमसे,
                       यह लो मान
              सुख-दुख जीवन के दो पहलू
           एक आता,
    दूजा छुप जाता
इस चक्र में
       बँधा संसार
               यह नियम,
                     संसृति – आधार
                                 पतझड़, मधुमास, ज्यैष्ठ, आषाढ़
                          सर्दी में कोहरे की चादर
                गर्मी में तारों की रात
         घूम-घूम कर आती जाती
    जीवन - मृत्यु,
जीत और हार
         तटस्थ भाव से
               जीना रहना यही है,
                          इस जीवन का सार!

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें