अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.25.2017

लघु-कथा

, , , , , , , , , क्ष, ख्, , , , , , ज्ञ, , , , , , , त्र, , , , , , , , , म, , , , , श-ष, श्र-शृ, , ,

     
   
अंजुम जी
अंत
अँधेरा (फ़ज़ल इमाम मल्लिक)
अँधेरा (विभा रश्मि)
अँधेरा-१ (फ़ज़ल इमाम मल्लिक)
अँधेरा-उजाला

अगला जन्म
अच्छे दिन
अच्छे बेटे का फर्ज
अजीब-चमक
अधूरी कथा
अनपढ़ माँ
अनाथ
२००७ : अ न्यूज स्टोरी

अपनाअपना नशा
अपना ठिकाना
अपनापन
अपना-पराया
अपनी-अपनी सोच

अपने - पराये
अपराध बोध
अप्रत्याशित
अब नगर शांत है
अभिव्यक्ति
अभिशाप
अभी भी हैं ऐसे लोग
अम्मा (अ्म्मा की याद में)
अर्थ का अनर्थ
अव्यक्त शांति
असली वज़ह

अहसास
    - ऊपर
   
आंतरिक सुख
आँसू
आईडिया
आईना
आख़िरी सीख
आग (रघुविन्द्र यादव)
आग (गोवर्धन यादव)
आजकल की लड़कियाँ
आत्मपीड़न
आत्ममंथन
आदत
आधुनिक अर्जुन
आधुनिक श्रवण
आबरू
आवभगत
    - ऊपर
   
इंसानियत (चंद्रेश कुमार छतलानी)
इंसानियत़ (ऋतु कौशिक)
इच्छा (व्यंग्य)
इज़्ज़त
इज़्ज़त का सवाल इमारत जो ढह गई
    - ऊपर
   
ईश्वर की कार्यप्रणाली
ईश्वर की विडम्बना
ईश्वर के साथ का सफ़र  
    - ऊपर
   
उड़ान उन्मूलन उलटे रिश्ते
उसके मुक्कमल रिश्ते
    - ऊपर
   
ऊँचाई    
    - ऊपर
   
एक और कस्बा एक पुख़्ता सवाल  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
औकात (कृष्णानन्द कृष्ण)
औकात (के.पी. सक्सेना दूसरे)
औकात (विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र')
औक़ात (ओमप्रकाश क्षत्रिय प्रकाश)
और भरोसा टूट गया
औरत
    - ऊपर
   
कंगन
कंगाल
कण्डक्टर
क़दम
करारा झटका
कर्मण्येवाधिकारस्ते
कर्म महान है
कसौटी
कहानीकार
काश मै भी कुत्ता होता..!
किस्सा किडनी का

कुछ तो बोल
केनवास
कैसे कैसे चोर
कोशिश

कौन है दोषी?
    - ऊपर
क्ष    
     
    - ऊपर
   
खट्टे अंगूर
ख़बर
ख़याल
खाई
खाली आँखें
खिंचाव
खुला पत्र
खोल
    - ऊपर
ग़ज़ल ग़ज़ल में फ़र्क
ग़रम मसाला
ग़लतफ़हमी
गीता का ज्ञान
गुमशुदा की रिपोर्ट
गोलू
गोश्त की गंध
- ऊपर
   
घर (शबनम शर्मा)
घर (फ़ज़ल इमाम मल्लिक)
घर किसका?
घरौंदा
घिनौना बदलाव
    - ऊपर
   
चकोर का मजाक
चकोर की चतुराई
चयन
चरित्
चाहत
चिड़ियाघर

चितेरा कथाकार
चौथा खंभा
- ऊपर
   
छटपटाहट
छठवाँ तत्व
छुट्टियाँ छोटी सी चिड़िया
    - ऊपर
   
जंगल में लोकतंत्र
जन्म दिवस
जब मौन पिघल जाता है.......
ज़मीन पर,
ज्वालामुखी
जवाब
ज़िंदगी
जिह्वा का वर्चस्व रहेगा
जीत
जीत का जश्र
जीवन का आनंद
जुगत
ज़ेब्रा क्रॉसिंग
जो जीते वही सिकंदर
जोरू का गुलाम
    - ऊपर
ज्ञ    
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर

   
ट्रेन का वो पुराना डब्बा
टूटता जल तरंग
टोटका  
    - ऊपर
   
ठंडी रजाई
ठहाका
ठेका ठेस
- ऊपर
   
डॉ. चकोर
डिवाइडर
डी.एन.ए. टेस्ट  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
तमाशबीन
तलाक़
तलाश
तरक्की

तलाश
तिये के चावल
तिरंगे की व्यथा
तिलक
तिलचट्टे
तीर्थान्त
तुम्हारी क़सम
तुलसी विवाह
तेरहवीं
तोहफ़ा
- ऊपर
त्र    
     
    - ऊपर
   
थकान और सुकून थैंकू भैया  
    - ऊपर
   
दरअसल
दर्द
दलबदलू
दवा की गोली
दादा-दादी
दान
दारोगाजी
दावत
दिखावा
दुनिया
दूसरी बेटी
देहरी अपनी-अपनी
दोपहर और शाम
दोपहर का भोजन
    - ऊपर
   
धैर्य की विजय    
    - ऊपर
   
नई बात
नई योजना
नकारने का रोग
नज़र
नया झुकाव
नया वर्ष
नाइन एलेवन
नियति (भारती पंडित)
नियति (डॉ. सुरंगमा यादव)
निरक्षर मानव

नींव
नौकरी की आशा
न्याय (आलोक सातपूते)
न्याय (गोवर्धन यादव)
नस्लवाद
    - ऊपर
   
पड़ोसी धर्म
पढ़ाई
पढ़ाई-2
पति-पत्नी
परंपरा

परिवर्तन (कृष्णा वर्मा)
परिवर्तन (मनोज चौहान)

पलायन
पसंद
पहली किश्त
प्यार और सत्कार
प्यास
पार्टी
पिघलता इंद्रधनुष
पेंशन
पैसा
प्रतिक्रिया
प्रतिभा का स्वागत
प्रवंचना
पुत्र धर्म
पुरस्कार
प्रारब्ध
    - ऊपर
   
फ्री चिप्स फ़ैशन फैसला
    - ऊपर
   
बचत‌
बड़ा आदमी पति
बदलाव (मानोषी चैटर्जी)
बदलाव (सुदेश दत्त)

बरसात
बहू
बाज़ी
बाज़ीगर
बादशाह पर जुर्माना
बाबा का ढाबा
बाबूजी
बिंदी
बिकने वाले
बिजली चमकने का रहस्य?

बिना छत के
बीए पास
बुआ
ब्रेक
बेघर बच्चों का घर

बेबस
बेटा कौन?
बेटी की शादी
- ऊपर
   
भगवान भला करें
भविष्यवाणी
भाई चारा
भाग्य विधाता
भिखारी
भीतर का भय
भीख
भूख और मौत
भूल सूधार की लिये
भैस के आगे बीन बजाना
भोग
    - ऊपर
   
मंच से झरता इंक़लाब
मस्जिद की तामीर के लिए
मजदूर औरत
मजबूरी
मददगार
मनचले
मलाल
माँ (शबनम शर्मा)
माँ (संजय पुरोहित)
माँ और दिवाली
माँ का मर्
माँ की व्यथा
मानवता
मापदण्ड

मालिक तो हम हैं
मास्टर जी
मास्टर शंभुनाथ
मिठाई का डिब्बा
मिसाल
मुसलमान
मूल्यांकन
मेरे जूते

मेरे बेटे
मैं कैसे पढ़ूँ
मैनेजमेंट
मौका

मौन
    - ऊपर
   
यन्त्रवत्
यादगार दिवस
ये कहाँ आ गए हम...।
योग्यता  
    - ऊपर
   
रंग बदलता जुलूस
रंगे-हाथ
रसम
राखी
राजनीति (फ़ज़ल इमाम मल्लिक)
राजनीति (सुभाष चन्द्र लखेड़ा)
राधा विदा हो गयी
रावण कौन?
राह
रिक्त स्थान
रिटायरमेंट
रिश्ते (शबनम शर्मा)
रिश्ते (दिलबाग विर्क)
रोशनी
रौंग नम्बर
    - ऊपर
   
लड़का बना दो
लड़की
लड़ेगा जो रहेगा वही ज़िन्दा
लव-मैंरिज
लाठी का महत्व
लालसा
लिबास
लेखनपुर की प्रेम कथा
लोकपाल बिल
    - ऊपर
   
वक़्त -वक़्त की बात
वह युवक
विचारधारा
विडम्बना
विद्वान

विश्वास
वृद्धाश्रम
वेतन आयोग
वो तस्वीर
वो घर
वो रात उस के साथ
वो रिक्शा वाला
वो सम्मान
व्यापार
व्यवस्था
व्यामोह
विकल्प
    - ऊपर
श-ष    
शहर का डॉक्टर
शान
शिक्षक
शिक्षा
शिष्टाचार
    - ऊपर
श्र-शृ    
श्रद्धांजलि श्रद्धा और विश्वास  
    - ऊपर
   
संकल्प (महर्षि त्रिपाठी)
संकल्‍प (संजय पुरोहित)
संकल्प (प्रमोद यादव)
संत
संवेदना
सतयुगी सपना
सपना
सफलता का राज़
सफाई
सभी चोर हैं तो
समय चक्र
सरकारी फंड‌
सरवंट
सवाल

सर्वधाम
सर्विस चार्जेज
ससुराल
सहिष्णुता
सही सोच
साँझे सपने
साम्राज्य एक दिन का
सियासत
सीख
सेवकपुर
सोच
सौ-सौ चूहे खाकर बिलाव हज को चला
सौत
सौदागर
स्कॉउण्ड्रल
स्वागत के अलावा और कोई विकल्प नहीं
स्वार्थ और सत्ता
स्वारथ लागि
    - ऊपर
   
हज़म
हैप्पी बर्थडे
हैप्पी मदर्स डे
होटल में डिनर
होनहार बिरवान के होत चीकने पात
- ऊपर
   

 

    - ऊपर