ज़ौक़ मोहम्मद इब्राहिम


दीवान

आँखें मेरी तलवों से मल ..
अब तो घबरा के ये कहते हैं
कल गए थे जिसे..