ज़मीर काज़मी


दीवान

शाम हो जाम हो सुबू भी हो